Ticker

6/recent/ticker-posts

UP Free Boring Yojana 2021 – निःशुल्क बोरिंग योजना 2021 Online Form

 UP Free Boring Yojana 2021 – निःशुल्क बोरिंग (नलकूप) योजना 2021 Online Form

यूपी निःशुल्क बोरिंग योजना:उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा किसानों को भी बोरिंग सुविधा प्रदान कर आ रही है उत्तर प्रदेश के छोटे और सीमांत किसानों को सिंचाई सुविधा प्रदान करने के लिए उपयुक्त बोरिंग योजना शुरू की गई इस चोरी का क्रियान्वयन उत्तर प्रदेश सिंचाई विभाग द्वारा किया गया है नेशनल बैंक फॉर एग्रीकल्चर एंड रूरल डेवलपमेंट (नाबार्ड) ने फ्री बोरिंग स्कीम के तहत विभिन्न हॉर्स पावर के पंपसेट खरीदने के लिए कर्ज की सीमा तय की है !यह योजना सिंचाई विभाग का प्रमुख कार्यक्रम है। योजनान्तर्गत पम्पसेट क्रय हेतु ऋण लेने पर किसानों ( Farmer ) को अनुदान दिया जाता है। 

योजना का लाभ उत्तर प्रदेश ( Uttar Pradesh ) के अति-शोषित विकास खंडों को छोड़कर राज्य के सभी क्षेत्रों में लागू है। उत्तर प्रदेश की कृषि प्रधान देश में आता है उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री द्वारा उत्तर प्रदेश के सभी किसानों के लिए फ्री बोरिंग की सुविधा की गई है ताकि वह अच्छी से अच्छी फसल उगा सके, इस यूपी फ़्री बोरिंग योजना ( Uttar Pradesh Free Boring Yojana ) के माध्यम से वे अपने खेतों की सिंचाई कर सकते हैं और अपनी सब्जियों और उपज को बढ़ावा दे सकते हैं।


यूपी निःशुल्क बोरिंग योजना का उद्देश्य

Uttar Pradesh Free Boring Yojana:-का मुख्य उद्देश्य प्रदेश के किसानों को मुफ्त बोरिंग की सुविधा उपलब्ध करवाना है। जिससे कि प्रदेश के किसान सिंचाई कर सकें। यह योजना खेत की गुणवत्ता बढ़ाने में भी कारगर साबित होगी। इस योजना के माध्यम से किसानों के जीवन स्तर में भी सुधार आएगा। इसके अलावा यह योजना किसानों की आय में वृद्धि करने के लिए भी कारगर साबित होगी। सरकार इस योजना के माध्यम से किसानों को निशुल्क बोरिंग की सुविधा प्रदान करेगी। जिससे कि किसान अपने खेत में सिंचाई कर सकेंगे। प्रदेश के किसानों को पानी की कमी के कारण सिंचाई ना करने की समस्या से भी राहत मिलेगी।

इससे उत्तर प्रदेश के किसानों को आर्थिक मदद मिलेगी और उनकी स्थिति भी मजबूत होगी इसलिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा फ्री बोरी योजना शुरू की गई ताकि किसान अपने जीवन को और अच्छी तरीके से जी सकें कृषि के लिए सबसे अधिक आवश्यकता सिंचाई की होती है इसी को देखते हुए सरकार द्वारा यह निर्णय लिया गया आज हम आपको इस लेख के माध्यम से यूपी फ़्री बोरिंग योजना ( Uttar Pradesh Free Boring Yojana ) के बारे में बताएंगे।उत्तर प्रदेश मुफ्त बोरिंग योजना सब्सिडी


सामान्य जाति के छोटे और सीमांत किसानों के लिए अनुदान

  • छोटे किसानों के लिए बोरिंग पर सब्सिडी की अधिकतम सीमा 5,000/- रुपये निर्धारित की गई है।
  • सीमांत किसानों के लिए बोरिंग पर सब्सिडी की अधिकतम सीमा 7,000/- रुपये निर्धारित की गई है।
  • पंप सेट को खरीदकर बोरिंग पर लगाना अनिवार्य नहीं है।
  • छोटे किसानों को पंप सेट खरीद कर बोरिंग लगाने पर अधिकतम 4500/- रुपये का अनुदान मिलेगा।
  • यदि पम्पसेट को सीमांत किसानों द्वारा बोरिंग पर खरीदा एवं स्थापित किया जाता है, तो अधिकतम अनुदान रु. 6,000/- प्राप्त होगा।
  • अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति के छोटे और सीमांत किसानों के लिए अनुदान
  • छोटे और सीमांत किसानों ( Farmer ) के लिए बोरिंग पर सब्सिडी की अधिकतम सीमा 10,000/- रुपये निर्धारित की गई है। यदि यूपी फ़्री बोरिंग योजना ( Uttar Pradesh Free Boring Yojana ) में बोरिंग से शेष राशि रू.10,000/- की सीमा के अधीन है, तो रिफ्लेक्स वाल्व, डिलीवरी पाइप, बेंड आदि जैसी सामग्री उपलब्ध कराने की अतिरिक्त सुविधा भी उपलब्ध होगी। बोरिंग पर पम्पसेट लगाने पर पम्पसेट क्रय करने पर अधिकतम 9,000/- रुपये का अनुदान प्राप्त होगा। तथापि, उत्तर प्रदेश ( Uttar Pradesh ) बोरिंग पर पम्पसेट लगाना अनिवार्य नहीं है।

यूपी निःशुल्क बोरिंग योजना के लाभ तथा विशेषताएं

  • सन 1985 में प्रदेश के लघु एवं सीमांत किसानों को बोरिंग की सुविधा प्रदान करने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा UP Nishulk Boring Yojana का शुभारंभ किया गया है।
  • इस योजना के माध्यम से सामान्य जाति एवं अनुसूचित जाति, जनजाति के लघु एवं सीमांत किसानों को सिंचाई के लिए बोरिंग की सुविधा उपलब्ध करवाई जाएगी।
  • बोरिंग के लिए पंप सेट की व्यवस्था करने के लिए किसान द्वारा बैंक से ऋण की प्राप्ति भी की जा सकती है।
  • सामान्य श्रेणी के लघु एवं सीमांत कृषकओ को इस योजना का लाभ तभी प्रदान किया जाएगा जब उनके पास न्यूनतम जोत सीमा 0.2 हेक्टेयर है।
  • 0.2 हेक्टेयर से कम जोत वाले सामान्य श्रेणी कृषकों को इस योजना का लाभ नहीं प्रदान किया जाएगा।
  • यदि कृषकों के पास 0.2 हेक्टेयर से कम जोत है तो इस योजना का लाभ कृषक के द्वारा समूह बनाकर प्राप्त किया जा सकता है।
  • अनुसूचित जाति एवं जनजाति के लघु एवं सीमांत कृषकों के लिए कोई न्यूनतम जोत सीमा निर्धारित नहीं की गई है।

 

UP Free Boring Yojana में ऐसे करें आवेदन

उत्तर प्रदेश फ्री बोरी योजना का लाभ लेने के लिए आपको नीचे लिंक पर क्लिक करना होगा क्लिक करने के बाद आपके सामने एक फॉर्म डाउनलोड हो जाएगा ( minorirrigationup.gov.in )।

फॉर्म को ऑनलाइन डाउनलोड करने के बाद एक प्रिंटआउट निकालना होगा।

इस यूपी फ़्री बोरिंग योजना ( Uttar Pradesh Free Boring Yojana ) के बाद फॉर्म में मांगी गई सभी जानकारियों को भरकर अपने जिले के प्रखंड विकास अधिकारी/सहायक अभियंता, लघु सिंचाई विभाग कार्यालय उत्तर प्रदेश ( Uttar Pradesh ) में जमा करना होगा.


एचडीपीई पाइपों के लिए सब्सिडी

90 मिमी आकार के एचडीपीई पाइप की लागत न्यूनतम 30 मीटर से अधिकतम 60 मीटर तक की 50% सब्सिडी दी जाएगी।  यूपी फ़्री बोरिंग योजना ( Uttar Pradesh Free Boring Yojana ) अनुदान की राशि एचडीपीई पाइप की लागत का ५०% या अधिकतम ३०००/- रुपये अनुदान के रूप में होगी। किसानों ( Farmer ) की मांग को ध्यान में रखते हुए 22 मार्च 2016 से 110 एमएम एचडीपीई पाइप लगाने पर भी उत्तर प्रदेश ( Uttar Pradesh ) सब्सिडी का प्रावधान किया गया है.पंप सेट खरीदने के लिए सब्सिडी

यूपी फ़्री बोरिंग योजना ( Uttar Pradesh Free Boring Yojana ) के तहत नाबार्ड द्वारा विभिन्न हॉर्सपावर के पंपसेट के लिए बैंक ऋण की सीमा तय की गई है. किसान राष्ट्रीय कृषि एवं ग्रामीण विकास बैंक की शाखा से ऋण प्राप्त कर सकते हैं। इसके अलावा किसान ( Farmer ) योजनान्तर्गत जिलावार पंजीकृत पम्पसेट डीलरों से पम्पसेट क्रय करने की व्यवस्था भी लागू की गयी है। दोनों में से किसी एक प्रक्रिया को अपनाकर किसान पंपसेट खरीदकर अनुदान का लाभ प्राप्त कर सकते हैं। योजना के तहत अनुदान का लाभ प्राप्त करने के लिए आईएसआई मार्क पंपसेट खरीदना अनिवार्य है। इस योजना का लाभ उत्तर प्रदेश ( Uttar Pradesh ) के सभी किसान ले सकते है !

यूपी गन्ना पर्ची कैलेंडर 2021 (caneup.in) | Ganna Parchi Online Calendar

शौचालय सूची 2021 | New Sauchalay List ग्रामीण शौचालय लिस्ट ऑनलाइन देखेंPM Kisan Status | पीएम किसान स्टेटस कैसे देखें?

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ